Tuesday, 27 April 2010


एक अजनबी
एक अजनबी
एक अजनबी से मुलाकात हो गयी ,
बातों ही बातों में हर बात हो गई,
कुछ उसने कही कुछ हमने कही,
पहचान हमारी कुछ यूँ हो गई ,
अब उसकी यादे भी साथ हो गई,
एक अजनबी से मुलाकात हो गई.....
सिलसिला बातों का ये चलता रहा,
दिल उनके लिए ये मचलता रहा,
अब ख़ास उनकी हर बात हो गई,
एक अजनबी से मुलाकात हो गई....
ना जाने ये कैसी मुलाकात थी,
सबसे जुदा उनमे कुछ बात थी,
आँखों ही आँखों में रात हो गई,
एक अजनबी से मुलाकात हो गई....
हर शाम को सपने सजाते हम ,
उनकी बातों में खुद को भुलाते हम,
इंतज़ार की अब इन्ताहात हो गई,
एक अजनबी से मुलाकात हो गई....

4 comments:

  1. ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है रेणू |जी बहुत ही सुन्‍दर रचना| बधाई और बेहद आभार ।।

    ReplyDelete
  2. मेरा सुझाव है कि आप वर्ड वरीफिकेशन को हटा दें तो टिप्‍पणी में समय कम लगेगा हां, आप मौडरेशन ऑन कर सकतीं है |

    ReplyDelete
  3. achhi rachna. sundar bhav abivyakti.

    ReplyDelete